…तो क्‍या मरकज़ में छुपाकर रखे गए थे 1800 ‘कोरोना मानव बम’

नई दिल्‍ली. दिल्‍ली के निजामुद्दीन तबलीगी मरकज़ में धार्मिक आयोजन होने के बाद देशभर पर कोरोना का खतरा और गहरा गया है. आलम यह है कि अब देश में इस महाबीमारी के तीसरे चरण के शुरू होने का काला साया मंडरा रहा है.
दिल्‍ली के तबलीगी जमात ने मनाही के बाद भी धार्मिक आयोजन अपनी जिद के चलते कर पूरे देश को संकट में डाल दिया है. देशभर में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाथ जोड़कर लॉकडाउन को सफल बनाने की मुहिम छेड़ रखी है. वहीं, तबलीगी जमात के चलते इस पूरी कवायद पर पानी फिरता नज़र आ रहा है. देश के 19 राज्‍यों में कोरोना का डर लोगों को सता रहा है. राज्‍य सरकारों से लेकर जिला प्रशासन तक में हड़कंप का माहौल बन गया है. इसी बीच दिल्‍ली के अरविंद केजरीवाल की सरकार ने इन सभी दोषियों पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश जारी कर दिया है. इस मरकज़ में करीब 1800 लोगों को छुपाकर रखा गया था.

तबलीगी जमात से आइसोलेशन के लिए ले जाए जा रहे कोरोना संदिग्‍ध.

यही नहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब 200 कोरोना संदिग्‍धों को पुलिस की अभिरक्षा में आइसोलेशन के लिए ले जाया जा रहा था तो वे बस खिड़कियों से रास्‍ते भर में थूकते हुए जा रहे थे. इसे माना जा रहा है कि वे ऐसा जानबूझकर कर रहे थे ताकि कोरोना का संक्रमण और तेजी से फैले. हालांकि, इन सवालों का जवाब अब जांच के बाद ही मिल सकेगा. आयोजकों की इस गैरजिम्‍मेदाराना हरक़त की वजह से देश की राजधानी अब डेंजर जोन में पहुंच चुकी है.

वीजा के नियमों की उड़ाई धज्‍जियां
दिल्‍ली की तबलीगी मरकज़ में छुपकर रहने वाले धार्मिक गुरूओं ने कानून की धज्‍जियां उड़ाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी है. एक ओर जहां उन्‍होंने लॉकडाउन के बीच आयोजन करके कानून की अवहेलना की है. वहीं, दूसरी ओर उन्‍होंने टूरिस्‍ट वीजा रखते हुए धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन करके वीजा के नियमों का भी उल्‍लंघन किया है. दरअसल, वीजा का कानून कहता है कि पर्यटन का वीजा रखने वाला कोई भी विदेशी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं कर सकता है.

मौलाना लगातार करते Lockdown का विरोध
देशभर में ऐसे ऑडियो इस समय वायरल हो रहे हैं जिसमें साफ सुनाओ जा सकता है कि मौलाना साद नामक एक धर्मगुरू कार्यक्रम में बार-बार सबसे यही कह रहा था कि मस्‍जिद में आना बंद मत करना. कोरोना का कहर मस्‍जिद में टूटने वाला. यदि कोई काबिल डॉक्‍टर भी कहे तो मस्‍जिद में आना बंद मत करो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here