Home Health 102 एम्बुलेंस में कराया प्रसव, जच्चा बच्चा सुरक्षित, मछरेहटा सीएचसी में भर्ती

102 एम्बुलेंस में कराया प्रसव, जच्चा बच्चा सुरक्षित, मछरेहटा सीएचसी में भर्ती

0

सीतापुर. जनपद की 102 एंबुलेंस सेवा लगातार प्रसूताओं व नवजात शिशुओं की जिंदगी बचाने में अहम योगदान दे रही है.

गुरुवार को प्रसव पीड़ा बढ़ने पर 102 एम्‍बुलेंस कर्मचारियों ने रास्‍ते में एम्‍बुलेंस में ही सुरक्षित प्रसव कराया और जच्‍चा बच्‍चा को सुरक्षित अस्‍पताल पहुंचाया. बच्‍चे के सुरक्षित जन्‍म के बाद परिजनों ने प्रदेश सरकार की ओर से संचालित की जा रही 102 एम्‍बुलेंस सेवाओं की सराहना की.

102 एम्बुलेंस में महिला ने जना बच्चा.

एम्‍बुलेंस सेवा प्रदाता संस्‍था जीवीके ईएमआरआई के प्रोजेक्ट मैनेजर रवि श्रीवास्तव ने बताया कि ग्राम सभा गुरैनी निवासी सरबजीत सिंह की पत्नी सोनम (26) को प्रसव पीड़ा होने पर 102 नंबर पर कॉल करके एम्‍बुलेंस सहायता मांगी गई थी. इसके बाद तुरंत 102 एम्‍बुलेंस भेजी गई थी. ईएमटी अनूप कुमार अपने साथी पायलट के साथ कुछ ही देर में एम्‍बुलेंस लेकर मौके पर पहुंच गए.

गांव से निकलकर एम्‍बुलेंस कुछ दूर ही पहुंची थी कि प्रसूता को दर्द बढ़ गया. प्रसूता की हालत देखकर ईएमटी ने सूझबूझ से काम लिया और जांच की. इसके बाद उन्‍होंने मिर्ज़ापुर मोड़ पर एम्‍बुलेंस रोककर अपनी सूझबूझ से सामान्य प्रसव कराया. ईएमटी की सहायता से कराये गए प्रसव के बाद सोनम ने स्‍वस्‍थ बच्‍चे को जन्‍म दिया. प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा को सुरक्षित मछरेहटा सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र में भर्ती कराया गया. एम्‍बुलेंस सेवा प्रदाता संस्‍था जीवीके ईएमआरआई के रीजनल मैनेजर इंद्रजीत सिंह ने बताया कि एम्‍बुलेंस में तैनात कर्मचारी प्रशिक्षित होते हैं और ऐसी इमरजेंसी स्थितियों में सुरक्षित प्रसव कराने के लिए डिलीवरी किट भी उपलब्‍ध होती है.
उन्होंने बताया कि 102 से पूरी तरह से फ्री है और गर्भवती महिलाओं व 2 साल तक के बच्चों को अस्पताल ले जाने व अस्पताल से वापस घर छोड़ने की सुविधा है. इस संबंध में एम्बुलेंस सेवा के अधिकारी रजत दीक्षित ने बताया महिला को अस्पताल में स्टाफ पुष्पा देवी के माध्यम से भर्ती कराया गया, उन्होंने बताया कि जच्चा बच्चा दोनों सुरक्षित हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here