Home CORONA Updates Ambulance Helpline : एम्बुलेंस के नाम पर यदि कोई लूटे तो डायल...

Ambulance Helpline : एम्बुलेंस के नाम पर यदि कोई लूटे तो डायल करें…

0
Courtesy : Google Image

देशवासी कोरोना महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहे हैं. प्रदेश भी उससे अछूता नहीं है. ऐसे में प्राइवेट एम्बुलेंस चालक लोगों की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं. वे महज 3 किलोमीटर के लिए भी दस-बारह हजार रुपये चार्ज कर रहे है.

आमजन की ज़िंदगी में इन दिनों एम्बुलेंस, हॉस्पिटल, दवा और ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत बढ़ गई है. ऐसे में कालाबाजारी करने वालों ने लोगों की मजबूरी का फायदा उठा रहे हैं. खासकर, निजी एम्बुलेंस चालक मरीजों को लाने व ले जाने के लिए जबरन मनचाहा रुपया बना रहे हैं.

लोगों की इसी दिक्कत का समाधान करने के लिए लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने निजी एम्बुलेंस की दर निर्धारित कर दी है. इसके तहत ऑक्सीजन रहित एम्बुलेंस से मरीज को 10 किलोमीटर की दूरी तक ले जाने के लिए 1000 रुपये का चार्ज तय किया गया है. उसके बाद प्रति किलोमीटर का किराया 100 रुपये होगा. वहीं, ऑक्सीजन युक्त एम्बुलेंस में 10 किलोमीटर की दूरी तक ले जाने के लिए 1500 रुपये का चार्ज तय किया गया है. उसके बाद प्रति किलोमीटर का किराया 100 रुपये होगा. इनके अलावा ऑक्सीजन सपोर्टेड-बाई पैप एम्बुलेंस में 10 किलोमीटर की दूरी तक ले जाने के लिए 2500 रुपये का चार्ज तय किया गया है. उसके बाद प्रति किलोमीटर का किराया 200 रुपये होगा.

लौटने का किराया मरीज नहीं देगा

डीएम ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि मरीज को गंतव्य तक पहुंचाने के बाद एम्बुलेंस वाले जो लौटने का किराया मांगते हैं, वह गलत है. अब मरीजों के परिजनों से इस तरह की अवैध वसूली नहीं की जा सकती है.

यहां करें शिकायत

दरअसल, बीते कई दिनों से निजी एम्बुलेंस मालिकों ने लूट मचा रखी है. डीएम कार्यालय में ऐसी कई शिकायतें आई थीं. उन्हें देखने के बाद ही यह कदम उठाया गया है. डीएम अभिषेक प्रकाश ने अपने आदेश में कहा है कि निर्धारित किराये से ज्यादा वसूली करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. पीड़ित इस सम्बंध में पुलिस हेल्पलाइन नम्बर 112 एवं ट्रैफिक हेल्पलाइन नम्बर 9454405155 पर कॉल कर सकते हैं.

इन धाराओं में होगी कानूनी कार्रवाई

डीएम के आदेशानुसार, पीड़ितों की शिकायत की जांच में सत्यता की पुष्टि होने के बाद नोडल अधिकारियों द्वारा एम्बुलेंस चालक के खिलाफ़ एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1987, उत्तर प्रदेश महामारी कोविड-19 विनियमावली 2020 के प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी. मामले में कार्रवाई के लिए पुलिस उपायुक्त यातायात ख्याति गर्ग एवं सम्भागीय परिवहन अधिकारी प्रवर्तन विदिशा सिंह को नोडल अधिकारी नामित किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here