सवाल पूछने पर पहले भी पत्रकारों को दलाल और बिकी हुई मीडिया के नाम से सम्बोधित कर चुके हैं यूपी के पूर्व CM…

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद गुरुवार को एक बार फिर हंगामा हो गया. मुरादाबाद में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मीडिया कर्मियों के साथ मारपीट की. इस दौरान एक पत्रकार जमीन पर गिर गया. शिकायत करने पर अखिलेश भी अपनी मर्यादा भूलते हुए पत्रकारों को ही दोषी ठहराने लगे.

पुलिस के आने पर बाहर निकल सके पत्रकार.


समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों पर पक्षपात करने का आरोप लगाया. इससे पहले अखिलेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कभी सवाल बीजेपी से भी पूछ लिया करो? क्या बीजेपी के ही सवाल पूछोगे?

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल यादव के दल से गठबंधन के संकेत दिए. उन्होंने कहा कि छोटे दलों से गठबंधन करेंगे. शिवपाल यादव का भी छोटा दल है. उन्होंने कहा कि बड़े दलों से गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा इसलिए इस बार छोटे दलों से गठबंधन करेंगे.

पत्रकारों ने सोशल मीडिया पर जाहिर की नाराजगी.


बदसलूकी की घटना पर बीजेपी नेता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने फिर से अपना चरित्र दिखलाया है. आज पूर्व मुख्यमंत्री के सामने लाल टोपी वाले गुंडों ने पत्रकारों को मारा-पीटा. हल्ला बोल वाला चरित्र दिखाया है. ये न पत्रकारों को और न आम जनता को बख्शने वाले हैं. ये बात सोचने वाली है कि जब ये सत्ता में रहे होंगे तब इनका सत्ता का नशा कैसा रहा होगा. ये बात सोचने वाली है.

पीड़ित पत्रकार ने बयां की अपनी पीड़ा.


जानकारी के अनुसार, अखिलेश यादव दो दिवसीय दौरे पर मुरादाबाद आए हैं. यहां उनको कार्यकर्ता सम्मेलन में हिस्सा लेना है. इसके साथ ही समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर टिप्स देना था. ऐसे में मुरादाबाद के एक होटल में अखिलेश यादव की ओर से पत्रकार वार्ता बुलाई गई थी.

कांग्रेस ने भी किया विरोध.

वहीं, उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने भी इस पूरे मामले पर अपनी नाराजगी जताते हुए अखिलेश यादव को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है. यूपी कांग्रेस ने अपनी आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से संदेश दिया है कि अखिलेश यादव को अब पत्रकारों के सवालों का जवाब देने से डर लगने लगा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here