भारत में तेजी से क‍िया जा रहा है वैक्‍सीनेशन. Courtesy : Google Image

ऐसे में केंद्र सरकार पर वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ाने का दबाव बढ़ गया है…

एक के बाद एक कई प्रदेशों से आवाज़ आ रही है कि वहां कोविड वैक्सीन की उपलब्धता नहीं हो पा रही है. ऐसे में केंद्र सरकार पर वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ाने का दबाव बढ़ गया है.

एक समाचार एजेंसी को सरकार के आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी दी है कि इस वर्ष की तीसरी तिमाही के अंत तक देश में पांच अन्य कम्पनियों की वैक्सीन भी उपलब्ध हो जाएगी. भारत में वर्तमान में कोवैक्सीन और कोविशील्ड नामक दो वैक्सीन का उत्पादन किया जा रहा है.

अतिरिक्त वैक्सीन के उत्पादन के सम्बंध में आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी दी है कि भारत में वर्तमान में कोवैक्सीन और कोविशील्ड नामक दो वैक्सीन का उत्पादन किया जा रहा है. वहीं, तीसरी तिमाही के अंत तक जिन वैक्सीन का उत्पादन शुरू होगा उनमें स्पूतनिक वी वैक्सीन (डॉ रेड्डी के सहयोग से), जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन (बायोलॉजिकल ई के सहयोग से), नोवावैक्स वैक्सीन (सीरम इंडिया के सहयोग से), जाइड्स कैडिलाज वैक्सीन और भारत बायोटेक इंट्रानेजल वैक्सीन शामिल हैं. सुरक्षा और गुणवत्ता पर केंद्र सरकार का विशेष जोर है. ऐसे में आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (EUA) को देखते हुए इनमें से किसी भी वैक्सीन को जल्द मंजूरी दी जा सकती है.

जानकारी मिली है कि इनमें से स्पूतनिक वैक्सीन अपने परीक्षण को सफलतापूर्वक पार करने के बेहद करीब है. आशा है कि स्पूतनिक वी वैक्सीन को अगले दस दिन के भीतर उत्पादन चालू करने की अनुमति मिल जाएगी. इनके अतिरिक्त करीब 20 अन्य वैक्सीन भी क्लिनिकल ट्रायल की कगार पर हैं.

रसियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (RDIF) ने कई भारतीय दवा निर्माता कम्पनियों जैसे इनमें हैदराबाद स्थित डॉक्टर रेड्डीज लेबोरेट्रीज, हिटेरो बायोफार्मा व विक्रो बायोटेक आदि से वैक्सीन के उत्पादन के लिए समझौता कर रखा है. 850 मिलियन वैक्सीन का उत्पादन करने के साथ ही स्पूतनिक कोरोना से लड़ी जा रही जंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है.

वैक्सीन की जल्द उपलब्धता के सम्बंध में उच्च अधिकारियों से पूछने पर उन्होंने बताया कि स्पूतनिक जून से पहले इस्तेमाल के लिए आ सकता है. सब ठीक रहा तो जॉनसन एंड जॉनसन (बायो ई) अगस्त तक, नोवावैक्स वैक्सीन (सीरम) सितम्बर तक और नेजल वैक्सीन (भारत) अक्टूबर तक प्रयोग में आने लगेंगे.

भारत में पिछले 24 घंटे में COVID19 के 1,52,879 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,33,58,805 हो गई है. वहीं, 839 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1,69,275 हो गई है. देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 11,08,087 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,20,81,443 है. देश में हर दिन समस्या गहराती जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here