इस्लामाबाद में कार्यरत भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारियों का कोई अता-पता नहीं लग रहा है. दो अफसरों की रहस्यमयी गुमशुदगी ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं.

इस्लामाबाद में कार्यरत भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारियों का कोई अता-पता नहीं लग रहा है. दो अफसरों की रहस्यमयी गुमशुदगी ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. न्यूज एजेंसी एएनआई ने अपने एक सूत्र के मुताबिक जानकारी दी है कि दोनों अधिकारी सोमवार सुबह आठ बजे से लापता हैं.

पड़ोसी देश पाकिस्तान में तैनात दोनों अधिकारियों की गुमशुदगी की ख़बर मिलते ही दिल्ली की सियासी गलियों में हड़कम्प मच गया है. भारत की ओर से पाकिस्तान को इस सम्बंध में त्वरित और सकारात्मक कदम उठाने के लिए कहा गया है. साथ ही, इस मामले में हर तरह की सूचना से तुरंत अवगत कराने की भी बात कही गई है.

इस घटनाक्रम के सप्ताह भर पहले ही नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग में तैनात दो अधिकारियों को उनकी संदेहास्पद कार्यशैली के चलते पाकिस्तान वापिस भेजा गया है. उन पर पाकिस्तान उच्चायोग में रहकर भारत के खिलाफ जासूसी करने का आरोप भी लगा था. वे दोनों अधिकारी दिल्ली में वीजा जारी करने वाले विभाग में कार्य करते थे.

इसके अलावा पाकिस्तान में कार्यरत कई भारतीय राजनयिकों ने नाराजगी जाहिर करते हुए यह बताया है कि उनकी बीते कई दिनों से बेवजह ही निगरानी की जा रही है. उन्होंने सर्विलांस के गलत इस्तेमाल के लिए भी अपना विरोध दर्ज कराया है.

दोनों देशों के सम्बन्धों पर काम करने वाले अधिकारी गौरव अहलूवालिया की कार का हाल ही में एक इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (ISI) के एक सदस्य ने पीछा भी किया था. उनकी कार के पीछे एक बाइकसवार को पीछा करते देखा गया था.
बीते मार्च माह में ही पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग ने वहां के विदेश मंत्री के सामने अपने अधिकारियों व कर्मचारियों को तंग किये जाने की शिकायत कर अपना कड़ा विरोध दर्ज कराया था.

एएनआई के मुताबिक, एक नोट के माध्यम से भारत ने 13 मामलों पर पाकिस्तान से जवाब मांगकर उन सभी ममलोनबकी जांच करने की बात कही थी. उस दौराम भारत ने पाकिस्तान से स्पष्ट कहा था कि सम्बन्धित एजेंसी को इसके लिए मना किया जाए कि ऐसे मामलों की दोबारा पुनरावृत्ति न हो
दरअसल, भारत और पाकिस्तान के बीच के रिश्ते में खटास ज्यादा है. खासकर, धारा 370 हटने के बाद पाकिस्तान हर मंच पर अपनी शिकायत दर्ज कर रहा है.  हालांकि, हर तरफ से उसे पटखनी ही नसीब हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here