Home National सहायक अध्यापक के 69000 पदों पर भर्ती होने वालों को 6 जून...

सहायक अध्यापक के 69000 पदों पर भर्ती होने वालों को 6 जून तक मिल जाएगा अप्वाइंटमेंट लेटर

0


उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापकों के 69000 पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जा रही है. 18 मई से इन पदों पर भर्ती की ऑनलाइन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.

उत्तर प्रदेश 69000 शिक्षक भर्ती परीक्षा का रिजल्ट आ गया है. काफी समय से अभ्यर्थी इस रिजल्ट का इंतजार कर रहे थे. हालांकि, पास होने वाले अभ्यर्थियों को अभी चयन की एक और प्रक्रिया से गुजरना होगा.

ऐसे होगी भर्ती…

उत्तर प्रदेश शासन में विशेष सचिव आनन्द कुमार सिंह की ओर से जारी की गई विज्ञप्ति में इन पदों पर भर्ती की प्रक्रिया की सूचना दी गई है. भर्ती के संदर्भ में विज्ञप्ति के प्रकाशन 17 मई को किया जाएगा. विज्ञप्ति के अनुसार, परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापकों के 69000 पदों पर ऑनलाइन पंजीकरण एवं आवेदन पत्र भरने की प्रक्रिया 18 मई की दोपहर से शुरू की जाएगी. ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 26 मई रात 12 बजे तक होगी. प्राप्त आवेदन पत्रों की जांच के बाद ऑनलाइन प्रोसेसिंग कर उसे डाउनलोड करने की तारीख 27 मई से 31 मई तक निर्धारित की गई है. वहीं, जनपदों में काउंसिलिंग के आयोजन एवं नियुक्ति पत्र जारी करने की समयसीमा 3 जून से 6 जून निर्धारित की गई है.

लड़नी पड़ी है लंबी कानूनी लड़ाई

यूपी सरकार के एक फैसले की वजह से यह मामला हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा. दरअसल, यूपी सरकार ने एग्जाम पास करने के लिए न्यूनतम अंक निर्धारित किए थे. आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 60 फीसदी और अन्यों को 65 फीसदी लाना अनिवार्य था. इस वजह से विवाद हो गया और मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट पहुंचा. वहां काफी समय तक मामला लंबित रहने के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी सरकार के फैसले को सही करार दिया. इसके बाद रिजल्ट आने का रास्ता साफ हो गया था.
इसके बाद उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र असोसिएशन ने 69000 शिक्षक भर्ती के मामले के विरोध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है और इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगाने या उसको रद्द करने की मांग की गई है. इससे पहले यूपी सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में एक कैविएट दाखिल की गई थी, जिसमें कहा गया था कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट बिना उसका पक्ष सुने कोई आदेश जारी न करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here