Home Health 15 राज्यों के 96 विश्वविद्यालयों के युवाओं ने लगाई बक्स्वाहा जंगल बचाने...

15 राज्यों के 96 विश्वविद्यालयों के युवाओं ने लगाई बक्स्वाहा जंगल बचाने की गुहार

0

54 हज़ार से अधिक लोगों ने ट्वीट कर सरकार को बक्स्वाहा जंगल बचाने के लिए परियोजना को रोकने का आग्रह भी किया…

पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्यरत संस्था क्लाइमेट एजेंडा ने आज दिनांक 5 जून 2021 को देशभर के युवाओं को एकजुट करते हुए बक्स्वाहा के जंगल को बचाने के लिए भारी समर्थन इकट्ठा किया.

वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार और मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री कार्यालय को संबोधित पत्र में देशभर से 15 राज्यों में चल रहे 96 विश्वविद्यालयों में पढने वाले युवाओं व शिक्षकों ने अपना समर्थन दर्ज किया है. बक्स्वाहा जंगल को बचाने के गुहार के साथ लिखे गए इस पत्र को क्लाइमेट एजेंडा द्वारा सम्बंधित कार्यालयों को भेज दिया गया. साथ ही, कुल 54 हज़ार से अधिक लोगों ने ट्वीट कर सरकार को बक्स्वाहा जंगल बचाने के लिए परियोजना को रोकने का आग्रह भी किया.

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित बक्स्वाहा एक सघन वन है. इसे सरकार द्वारा आदित्य बिरला समूह को हस्तांतरित कर दिया गया है, ताकि हीरे का खनन हो सके. हीरे निकालने के लिए पेड़ काटने से पर्यावरण को भारी नुकसान होना तय है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार 2.15 लाख पेड़ काटे जाएंगे, जबकि वास्तविकता में यह संख्या और भी अधिक हो सकती है। वर्तमान में वनाच्छादित कूल 383 हेक्टेयर वन भूमि बंजर हो जाएगी, और कई रिपोर्ट्स के अनुसार, हीरा परियोजना के लिए कूल 1 करोड़ 60 लाख लीटर पानी का व्यय रोजाना होना है. ऐसे में पहले से सूखाग्रस्त बुंदेलखंड क्षेत्र पर इस हीरा परियोजना से जो विपदा आनी है, वो फिलहाल किसी गणना या अनुमान से भी परे है.

अभियान के अगले चरण के बारे में क्लाइमेट एजेंडा की ओर से एकता शेखर ने बताया कि कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन करते हुए जल्द ही देशभर के साथियों को एक प्लेटफॉर्म पर लाते हुए बक्स्वाहा समेत सभी जंगलों के संरक्षण के लिए एक व्यापक मुहीम छेड़ी जायेगी, अभियान से जुड़े तमाम साथी इस सघन वन को बचाने के लिए कृतसंकल्पित हैं. फिलहाल, कुल 15 राज्यों के (मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, झारखंड, ओडिशा, बिहार, नई दिल्ली, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, हरियाणा, कर्णाटक, पंजाब, तेलगांना, छत्तीसगढ़, असाम) 19 केंद्रीय विश्वविद्यालय, 5 आईआईटी समेत 96 राज्य विश्वविद्यालय और डिग्री कॉलेज का समर्थन मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here